आहें

आज रात चाँद कुछ ज्यादा ही रौशन है। आसमान का अंधेरा उसकी सफेद चादर तले छुपा हुआ है जैसे, खुश्क मौसम है, हवा बिलकुल भी नहीं। मगर दूर से एक हल्का हवा का झोंका निरंतर सांसें छोड़ रहा है। उस झोंके की आहट सुन सकते हो क्या? तकिये के बीच दबी हुई मेरी आहें भीContinue reading “आहें”

Thirty years after the Bhopal Gas Tragedy

[First published in The Hindu dated Nov. 2, 2014] Come December, it will be 30 years since the Bhopal gas tragedy occurred. The leakage of the deadly methyl isocyanate gas from the Union Carbide Corporation (UCC) factory in Bhopal went down in history as one of the worst industrial disasters in the world. But afterContinue reading “Thirty years after the Bhopal Gas Tragedy”