फितरत

जिन्हे ये जहान बुरा करार करता है
उनमें होती है खूबियां कई।
और जो खुद को अच्छा बतलाते हैं
उनमें होती है खामियां कई।

ओ दुनियावालों किसी की बातों में आकर
मत करना दूसरों को खुद से परे।
कहीं ऐसा न हो, अच्छाई और बुराई के बीच
कशमकश में इंसान अपनी फितरत खो बैठे…

© Vidya Venkat

Published by Vidya Venkat

Ph.D. candidate in Anthropology at SOAS, London. Formerly, journalist at The Hindu, Chennai.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: