Farm laws’ repeal: In India, democracy isn’t dead

Friday’s announcement on repealing the new farm laws in India affirms how no government, irrespective of the strength of its mandate, can afford to disregard voices of people emerging from the ground. Vidya Venkat [First published in The Wire on November 20, 2021.] Narendra Modi’s announcement on Friday repealing the three new farm laws isContinue reading “Farm laws’ repeal: In India, democracy isn’t dead”

खाली घर

बचपन में, घर के पास जो खाली घर था,वहाँ मैं और मेरी दीदी, ऊंची आवाज़ में,अपने नाम को पुकार कर उसकी गूँज सुना करते थे।आज सालों बाद खाली घर में अपने नाम के बजायकिसी दूसरे के नाम को गूँजता सुन करये ख्याल आया : बचपन और जवानी में यही फर्क़ हैकि उम्र के साथ केवलContinue reading “खाली घर”

तंगदिल

वो कोई तंगदिल ही होगा,जिसने प्यार के बदले प्यार ना दिया।अब हम गिला करें भी तो किस से,जब मुझे ठुकराने के चक्कर मेंवो खुद बर्बाद हुआ… © Vidya Venkat