आधा चाँद

बचपन में रात को रेल की खिड़की की ओर बैठकर आसमान में आधा चाँद ताकना याद है मुझे. आश्चर्य होता था, चाहे कितनी ही गति से क्यों न रेल का चाक चल रहा हो, पटरियों को घिसते, चीखते, रात को आकुल करते हुए, मगर वो आधा सा चाँद वहीँ एक तस्वीर की तरह आसमान मेंContinue reading “आधा चाँद”

आहें

आज रात चाँद कुछ ज्यादा ही रौशन है। आसमान का अंधेरा उसकी सफेद चादर तले छुपा हुआ है जैसे, खुश्क मौसम है, हवा बिलकुल भी नहीं। मगर दूर से एक हल्का हवा का झोंका निरंतर सांसें छोड़ रहा है। उस झोंके की आहट सुन सकते हो क्या? तकिये के बीच दबी हुई मेरी आहें भीContinue reading “आहें”

In the storm’s eye

Hear The rumble of the wind, The ominous tune it plays on roof tins. Behold The darkening of the sky, The swift embrace of clouds on the sly. Feel The pounding of the hearts, The rain’s sharp descent, its pointed darts. * This whooshing wind, this eerie sky, This unyielding torrent in the storm’s eye,Continue reading “In the storm’s eye”

After the storm

He sits on his haunches                         Palm over the head. The storm last night                         Blew away his hut. It was made out of straw                         And some thatch, It was no match                         For the might Of the raging monster. In Sundarbans,                         People become meals For crocodiles &Continue reading “After the storm”